An Indian Civilizational Perspective

Yugbodh ka Hastakshar

I read this poem and found it very motivational. Wanted to share it with all.

दिग्भ्रमित क्या कर सकेंगीं, भ्रांतियाँ मुझको डगर में;
मैं समय के भाल पर, युगबोध का हस्ताक्षर|

कर चुका हर पल समर्पित जागरण को;
नींद को अब रात भर सोने न दूंगा;
है अंधेरे को खुली मेरी चुनौती;
रोशनी का अपहरण होने न दूंगा |

जानता अच्छी तरह हूँ, आंधियों के मैं इरादे;
इसलिए ही; जल रहे जो दीप उनका पक्षधर हूँ |

Get Drishtikone Updates
in your inbox

Subscribe to Drishtikone updates and get interesting stuff and updates to your email inbox.

Comments are closed.

Get Drishtikone Updates
in your inbox

Subscribe to Drishtikone updates and get interesting stuff and updates to your email inbox.