An Indian Civilizational Perspective
Browsing Tag

Premchand

प्रेम सूत्र – मुंशी प्रेमचन्द की रचना

संसार में कुछ ऐसे मनुष्य भी होते हैं जिन्हें दूसरों के मुख से अपनी स्त्री की सौंदर्य-प्रशंसा सुनकर उतना ही आनन्द होता है जितनी अपनी कीर्ति की चर्चा सुनकर। पश्चिमी सभ्यता के प्रसार के साथ ऐसे प्राणियों

Get Drishtikone Updates
in your inbox

Subscribe to Drishtikone updates and get interesting stuff and updates to your email inbox.